चंदवंश 12 वीं 18 वीं सदी

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest

कत्यूरियों के पश्चात कुमाऊं क्षेत्र में चंद वंश का उद्भव हुआ |

चंद वंशों ने न केवल कुमाऊं क्षेत्र को राजनैतिक एकता के सूत्र में बांधा , बल्कि वहां पर कला , सभ्यता एवं संस्कृति के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया |

कुमाऊं में इस वंश के संस्थापक – सोमचंद था ।

1 :- सोमचंद

सोमचंद ने चंपावत को अपनी राजधानी बनाया | एवं चंपावत के आसपास के क्षेत्र को जीतकर अपने साम्राज्य का विस्तार करने की नीति अपनाई |

इसने चंपावत में राजबुंगा किले का निर्माण करवाया था |

2 :- आत्म चंद

यह सोमचंद की कत्यूर रानी से उत्पन्न पुत्र था |

भीष्मचंद शासक द्वारा अपनी राजधानी चंपावत से हटाकर अल्मोड़ा बनाई |

अल्मोड़ा में इन्होंने खगमरा किले का निर्माण कराया |

3 :- रूपचंद

रूपचंद अकबर का समकालीन था |

रूपचंद ने अल्मोड़ा में मल्लामहल का निर्माण करवाया |

इसने एक सामाजिक और राजनैतिक व्यवस्था स्थापित करने का प्रयास किया|

रूपचंद ने “धर्म निर्णय” नामक पुस्तक लिखी | इसने पक्षी आखेट से संबंधित एक पुस्तक “शैयनिक शास्त्र” की रचना की थी |

4 :- लक्ष्मीचंद

लक्ष्मीचंद ने बैजनाथ मंदिर का पुनर्निर्माण करवाया था |

5 :- बाज बहादुर

बाज बहादुर के समय ‘चौरासी माल परगने’ पर राजपूतों का अधिकार था | इस परगने से चंद वंशीय राजाओं को अत्यधिक आय होती थी | फलस्वरूप बाज बहादुर माल परगने को लेकर मुगल बादशाह शाहजहां से मिला , एवं शाहजहां ने इसे जमीदार एवं बहादुर की उपाधि दी|

इसने बाजपुर नामक नगर बसाया | एवं मनीलागढ़ के कत्यूरियों पर आक्रमण किया | कत्यूरियों ने भागकर पूर्वी गढ़वाल को लूटना प्रारंभ किया | इनको रोकने के लिए इस क्षेत्र के थोकदार गोला रावत , भूप सिंह (भाई तीलू रौतेली) ने मोर्चा संभाला | किंतु भूपसिंह की अपने दो पुत्रों के साथ मृत्यु हो गई |

फलस्वरूप इनकी पुत्री वीरांगना तीलू रौतेली ने मोर्चा संभाला| तथा कत्यूरियों के साथ लगभग 7 बार युद्ध किए | एवं चौन्दकोट , पूर्वी अल्मोड़ा पर अपना अधिकार किया | किंतु नयार नदी में नहाते समय कत्यूरियों द्वारा तीलू रौतेली हत्या हो गई | तीलू रौतेली को “गढ़वाल की लक्ष्मीबाई” कहा जाता है | तीलू रौतेली की घोड़ी का नाम बिंदुली था |

बाज बहादुर ने मानसरोवर यात्रियों को भूमि , भोजन एवं वस्त्र दिया | इसने ‘हथिया देवाल मंदिर’ का निर्माण किया , यह एक एकाश्म मंदिर (एक पत्थर से बना) है | इसे “कुमाऊँ का कैलाश मंदिर” भी कहा जाता है |

6 :- अद्योतचंद

इस समय नेपाल के क्षेत्र को डोटी कहा जाता था | एवं इसने इन की राजधानी अजमेर गढ़ को लूटा था |

7 :- ज्ञानचंद

ज्ञानचंद ने अल्मोड़ा में नंदा देवी मंदिर का निर्माण करवाया | (नैना देवी) |

8 :- जगत चंद

जगत चंद कुमाऊँ का सबसे लोकप्रिय शासक था | इसके शासन में जनता न केवल सुखी थी | बल्कि व्यापार , वाणिज्य भी चरम पर था | इसीलिए जगत चंद के शासनकाल को कुमाऊं में चंद वंश का स्वर्णिम काल कहा जाता है | जगतचन्द ने गढनरेश फतेशाह को परास्त किया था |चेचक के कारण जगत चंद की मृत्यु हो गयी ।

9 :- देवी चंद

जगत चंद की मृत्यु के पश्चात उनका पुत्र देवीचंद शासक बना | जिसे विरासत में भरा पूरा राजकोष मिला था | किंतु यह सदैव अपने चापलूस सरदारों से घिरा होता था | जिन्होंने इसे कुमाऊँ का विक्रमादित्य होने का भ्रम दिया | इसकी अयोग्यता एवं अदूरदर्शिता के कारण कुछ समय पश्चात ही राजकोष खाली हो गया |

इसकी गलत नीतियों के कारण कुछ इतिहासकारों ने इसे कुमाऊँ का मोहम्मद बिन तुगलक कहा है |

10 :- कल्याण चंद

चंद वंश के राजकोष की हालत इतनी खराब हो गई थी , कि कल्याण चंद को मुहम्मद शाह रंगीला से मिलने हेतु , नजराना पेश करने के लिए जागेश्वर मंदिर समूह से ऋण लेना पड़ा था | कल्याण चंद चतुर्थ के समय कवि शिव ने “कल्याणद्रोदयम” नामक पुस्तक लिखी |

इसके पश्चात कुमाऊँ राजनैतिक अस्थिरता का शिकार रहा | बड़े-बड़े सरदारों के उद्भव , गुटबंदी एवं दरबारी षडयंत्रो ने प्रशासन को कमजोर किया |

वहीं नेपाल अपनी सीमा विस्तार कर रहा था | कुमाऊं में लाल सिंह ने अपने पुत्र महेंद्र सिंह को महेंद्र चंद के नाम से गद्दी पर बैठाया | 1790 में अमर सिंह थापा एवं हस्तीदल चौतरिया के नेतृत्व में एक नेपाली सेना कुमाऊं की ओर बढ़ी | नेपाली सेना को दो भागों में बांटा गया , एवं सेना के एक भाग ने पिथौरागढ़ सोरघाटी में प्रवेश किया | जबकि एक सेना का भाग विसुंग चंपावत को जीतते हुए राजधानी अल्मोड़ा की ओर बढ़ा | हवालाबाग के युद्ध में चंद शासक महेंद्र चंद परास्त हुआ | एवं कुमाऊं पर गोरखाओं का अधिकार हो गया |

गोरखाओं के कुमाऊँ पर आक्रमण के समय हर्ष देव जोशी ने गोरखाओं की मदद की थी | कुमाऊँ के इतिहास में हर्षदेव जोशी को “किंग मेकर” कहा जाता है इसे कुमाऊँ का ‘चाणक्य’ भी कहा जाता है |

नोट – शिवादत्त / शिवानंद जोशी ने अल्मोड़ा में बिनसार महादेव मंदिर का निर्माण कराया|

नोट – चंद शासक शैव धर्म के अनुयायी थे| इनका राज चिह्न गाय थी एवं मोहरों पर तलवार की ठूंठ का प्रयोग होता था |

चंदों का प्रशासन

कत्यूरियों के पश्चात कुमाऊं क्षेत्र पर लंबे समय तक चंदवंशीय राजाओं ने शासन किया | इन्होंने न केवल कुमाऊं में अपनी सत्ता स्थापित करके , उसे एक राजनैतिक स्वरूप प्रदान किया | बल्कि वहां पर सामाजिकराजनैतिक व्यवस्था को कायम करके क्षेत्र में संस्कृति एवं समाज के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका प्रदान की|

इनके द्वारा चलाए गए परंपरा एवं प्रथाएं आज भी वहां के ग्रामीण क्षेत्रों में प्रचलित है | जो सांस्कृतिक धरोहर के रूप में अपना स्थान बनाए हुए हैं | चंद के प्रशासन में पूर्ववर्ती तथा समकालीन राज्य के प्रशासन का प्रभाव देखने को मिलता है | क्योंकि चंद शासक से पूर्व क्षेत्र में कत्यूरी वंश का प्रशासन चंद के प्रशासन का भी आधार बना |

इसके अतिरिक्त चंदो का मुगल शासकों से भी संबंध रहा | इसलिए मुगलों के प्रशासन का भी इनके प्रशासन पर स्पष्ट प्रभाव देखने को मिलता है| नेपाल से संबंध होने के कारण नेपाली शब्दों का प्रयोग किया गया है|

इस प्रकार अभी कह सकते हैं , कि चंदों का प्रशासन का केंद्र बिंदु “राजा” होता था | तथा राजा ही सर्वोच्च न्यायाधीश एवं प्रधान सेनापति होता था |

चंद राजाओं द्वारा देव की उपाधि ली जाती थी | जो प्रमाणित करता था करता है , कि राजा को पृथ्वी पर देवताओं का प्रतिनिधित्व समझा जाता था |

राजकीय कार्यों में राजा को सहायता देने के लिए राजा अपना एक युवराज को घोषित करता था | युवराजों द्वारा कुंवर एवं गुसाईं की उपाधि ली जाती थी |भूमि दान देने का अधिकार राजा एवं युवराज को ही प्राप्त होता था | राजा को प्रशासनिक सहायता देने के लिए मंत्रिपरिषद होती थी |यह एक सलाहकार संस्था थी | इसने माहरा एवं फर्त्याल जैसी जातियों का प्रभुत्व था | दीवान पद महत्वपूर्ण एवं प्रभावी होता था , यह जोशी जाति के लोगों को दिया जाता था |

साम्राज्य को प्रांत में , प्रांत को देश में ( मल्ल देश, डोटी देश, माल देश ) , देश को परगने में , परगने को गर्ख ( पट्टी) में बांधा गया था | गर्ख का प्रमुख अधिकारी नेगी होता था | जो कि जाति नहीं पद का नाम था | प्रशासन की सबसे छोटी इकाई गांव थी | इसका प्रमुख सयाणा / बूढा कहलाता था | तथा इसकी पंचायत को न्याय करने का भी अधिकार था | सबसे बड़ा न्यायाधीश राजा होता था | एवं इसके अधीन विष्ठाली एवं न्यौवली नामक कचरियाँ थी | एवं पंचवीसी या चारथान नामक न्यायालय का भी उल्लेख मिलता है |

चंद वंश राजा शैव धर्म के उपासक थे | चंपावत में नाग मंदिर , अल्मोड़ा में जागेश्वर मंदिर , द्वारहाट मंदिर , इस तथ्य को प्रमाणित करता है |

ग्रामीण एवं समाज द्वारा एवं घुरड़िया देवता की पूजा की जाती थी , घुरड़िया देवता ही ग्वाला देवता थे |

NEXT – उत्तराखंड में गोरखा शासन (चौबीसी)

Subscribe to our Newsletter

get notification in your email inbox when we share any post and update on our website. give your email detail below abnd join our exited community

Share this post with your friends

Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on linkedin

Leave a Reply