उत्तराखंड में पायी जाने वाली मिट्टी और मिट्टी के प्रकार
Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp

उत्तराखंड में पायी जाने वाली मिट्टी और मिट्टी के प्रकार

उत्तराखंड में मिट्टी
1 – तालाब / नदी घाटी की भूमि 2 – मैदानी भागों की भूमि 3 – पर्वतीय ढल युक्त भूमि / उखड

उत्तराखंड एक कृषि प्रधान राज्य है | तथा जनसंख्या का एक बड़ा भू – भाग आज भी कृषि कार्यों में संलग्न है |

यद्यपि उत्तराखंड को कृषि के दृष्टिकोण से एक समृद्धशाली प्रदेश नहीं कहा जा सकता है | परंतु यहां पर सभी प्रकार की खेती थोड़ी बहुत मात्रा में हो जाती है |

यहां खाद्यान्न फसलों के रूप में धान, गेहूं, जौ, बाजरा, मांडवा कौड होती है | एवं दलहन फसलों में राजमा, चना, भट्ट, तोर, गहथ आदि की खेती होती है |

जबकि पर्वत क्षेत्रों में तापमान कम होने के कारण फलों का उत्पादन भी होता है | जिसमें से अखरोट, नाशपति एवं संतरा खुमानी आदि प्रमुख हैं | उत्तराखंड की भूमि संरचना को देखते हुए , भूमि को तीन भागों में बांटा गया है | जो निम्न प्रकार से है –

1 – तालाब / नदी घाटी की भूमि, 2 – मैदानी भागों की भूमि, 3 – पर्वतीय ढल युक्त भूमि / उखड

1 – तालाब / नदी घाटी की भूमि,

उत्तराखंड में नदियां अपने प्रवाह मार्ग के सहारे विशाल उर्वरक मैदानों का निर्माण करती है |

इन मैदानों में सिंचाई सुविधा भी उपलब्ध होती है | मिट्टी उपजाऊ होने के कारण यहां पर गेहूं , धान की खेती की जाती है |

यह मध्यम कृषि क्षेत्र वाला प्रदेश है | और उत्तराखंड में सिंचित भूमि को तलाव कहा जाता है |

2 – मैदानी भाग की समतल भूमि

इसमें संपूर्ण तराई भाबर क्षेत्र आता है | जिसमें देहरादून , हरिद्वार , उधमसिंह नगर एवं नैनीताल का कुछ भाग आता है |

यहां पर समतल एवं उर्वरक मैदान है | तथा इन मैदानों में कृषि सर्वाधिक विकसित अवस्था में मिलती है |

इन क्षेत्रों में गेहूं , धान , गन्ना एवं दलहनी फसलों का उत्पादन अधिक होता है

3 – पहाड़ी ढालों की कृषि भूमि

उत्तराखंड में पहाड़ों पर सीढ़ीदार खेती होती है |

सिंचित भूमि ना होने के कारण स्थानीय भाषा में इसे उखड़ कहा जाता है | यह कृषि वर्षा पर आधारित होती है |

जिस कारण उत्पादन कम तथा अनियंत्रित होता है | इसलिए वर्तमान में लोग कृषि कार्यों को छोड़कर अन्य व्यवसायों में संलग्न हो गए हैं |

ICAR (दिल्ली भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद) ने उत्तराखंड की मिट्टी को पर्वतीय या वनीय मिट्टी कहा है |

किंतु यदि हम स्थानीय रूप में देखें तो मिट्टी के संगठन के आधार पर उत्तराखंड में निम्न प्रकार की मिट्टियां पाई जाती हैं –

1 – तराई मिट्टी

यह मिट्टी उत्तराखंड राज्य के दक्षिणी भाग में देहरादून से उधम सिंह नगर तक फैली है |

यह बारीक कणों की मिट्टी है | यह अधिक परिपक्व है | तथा इस मिट्टी में नाइट्रोजन तथा फास्फोरस की कमी देखने को मिलती है |

यह मिट्टी समतल , दलहनी , नम और उपजाऊ होती है | यहां पर गन्ना और धान की फसल सर्वाधिक होती है |

2 – भाबर मिट्टी

यह तराई के उत्तर तथा शिवालिक के दक्षिण में देखने को मिलती है | यहां पर मिट्टी पथरीली एवं कंकड़ पत्थर से युक्त होती है | पानी की कमी के कारण यह अनउपजाऊ होती है |

3 – चारगाही मिट्टी

यह मिट्टी नदियों और जल धाराओं के किनारे सर्वाधिक मात्रा में पायी जाती है |

4 – टर्शियरी मिट्टी

ये हल्की बलुई छिद्रयुक्त एवम कम आर्द्रता धारणा करने वाली मिट्टी होती है | ये शिवालिक एवम दून घाटी में पाई जाती है | इसमें वस्पतियों की अधिकता होती है |

5 – क्वाटर्ज मिट्टी

यह मिटटी सामनायतः भीमताल , नैनीताल क्षेत्रों में पायी जाती है

6 – ज्वालामुखी मिट्टी

इस मिटटी का निर्माण सामान्यतः आग्नेय चट्टानों से हुआ है | ये भी नैनीताल के भीमताल क्षेत्रों में पाए जाते है |

7 – दोमट मिट्टी

दोमट मिट्टी दून घाटी में पाई जाती है | इसमें चूना तथा लौह अंश की अधिकता होती है |

8 – भूरी लाल पीली मिट्टी

इस मिटटी का निर्माण चूना ,बलुआ , पत्थर और डोलो माईट से हुआ है |और इसका क्षेत्र श्रीनगर , मसूरी , चकराता स्थानों में है | (गैल्विनिकरण एक प्रक्रिया है जिसमे जिंक की परत लोहे पर लगायी जाती है )

9 – लाल मिट्टी

पहाड़ी ढालों और पर्वतों के किनारे पायी जाती है | एवं इस मिट्टी का उपयोग ग्रामीण क्षेत्रों में लिपाई के लिए विशेष होता है |

10 – वनों की भूरी मिट्टी

11 – भस्मी मिट्टी

12 – उच्चतम पर्वतीय छिछली मिट्टी

13 – उच्च मैदानी मिट्टी

यह मिट्टी सामान्यतः 4000 km से अधिक ऊंचाई पर पाई जाती है | इसमें नमी कम तथा कार्बनिक पदार्थों की अधिकता होती है |

उत्तराखंड में भूमि मापने के लिए नाली व मुट्टी का प्रयोग होता है |
1 नाली 200 वर्ग मीटर
1 हेक्टेयर 50 नाली 10000 वर्ग मीटर

Subscribe to our Newsletter

get notification directly in your email.
whenever we post an article or Video lecture on our website, you will be notified through our newsletter. Write down your email ID in the box Below and join our exciting community.

Share this post with your friends

Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on linkedin

Leave a Reply