Please Enter your Email to get all new notification

उत्तराखंड के राष्ट्रीय उद्यान

राष्ट्रिय उद्यान स्थापना क्षेत्रफल स्थान
जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क1936520 वर्गकिलोमीटरपौड़ी नैनीताल प्रोजेक्ट टाइगर nov , 1973
गोविन्द नेशनल पार्क1980472 वर्ग किलोमीटरउत्तरकाशी
नंदा देवी नेशनल पार्क 1982624 वर्ग किलोमीटरचमोली
फूलों की घाटी193187.5 वर्ग किलोमीटरचमोली14 जुलाई 2005 यूनेस्को धरोहर सूची
राजाजी नेशनल पार्क 1983 820 वर्ग किलोमीटर देहरादून, हरिद्वार, पौड़ी 2015 उत्तराखंड द्वितीय बाघ संरक्षण
गंगोत्री नेशनल पार्क 19892390 वर्ग किलोमीटर उत्तरकाशी

उत्तराखंड के नेशनल पार्क –

सबसे पहले उत्तराखंड में 1935 में वन्य जीवों को संरक्षण प्रदान करने के लिए देहरादून में मोतीचूर वन्य जीव विहार की स्थापना की गयी |

1 – जिम कार्बेट नेशनल पार्क 1936 –

इसकी स्थापना 1936 में नैनीताल पौड़ी के 520 वर्ग किलोमीटर में की गयी | ये उत्तराखंड का ही नहीं बल्कि भारत सहित पूरे एशिया का सबसे पुराना नेशनल पार्क है |

स्थापना के समय इसका नाम हेली नेशनल पार्क था | उसके पश्चात स्वतंत्रता के समय इसका नाम रामगंगा नेशनल पार्क रखा गया |

1957 में इसका नाम प्रसिद्ध शिकारी जिम कॉर्बेट (गोरा ब्राह्मण) के नाम पर कॉर्बेट नेशनल पार्क कर दिया गया |

प्रोजेक्ट टाइगर के तहत नवंबर 1973 में इसे पहला टाइगर रिजर्व घोषित किया गया | तथा यहां पर बाघों को अधिक सुरक्षा प्रदान करने के लिए 2013 में टाइगर प्रोटेक्शन फोर्स का गठन किया गया |

2 – गोविंद नेशनल पार्क 1980

क्षेत्रफल की दृष्टि से गोविंद नेशनल पार्क 472 वर्ग किलोमीटर है | यह उत्तरकाशी जिले में स्थित है |

3 – नंदा देवी नेशनल पार्क 1982

इसकी स्थापना 1982 में हुई थी | एवं क्षेत्रफल की दृष्टि से यह 624 वर्ग किलोमीटर में है | यह चमोली जिले में स्थित है |

4 – फूलों की घाटी नेशनल पार्क

सबसे पहले 1931 में फ्रेंक स्मिथ नामक व्यक्ति ने पूरे विश्व को फूलों की घाटी से परिचित करवाया था | तथा द वैली ऑफ फ्लावर नामक पुस्तक लिखी |

हालांकि इससे पूर्व स्कंदपुराण में इसे नंदकानन एवं मेघदूतम में अलकापुरी नाम से जाना गया है |

नर एवं गंधमादन पर्वत के बीच भ्युठार घाटी में फूलों की घाटी स्थित है |

यहां पर पुष्पावती नामक नदी बहती है | इसलिए इसे पुष्पावती नेशनल पार्क भी कहा जाता है |

यह क्षेत्रफल की दृष्टि से यह 87.5 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है | तथा यह उत्तराखंड का सबसे छोटा नेशनल पार्क है | जो चमोली जिले में स्थित है |

14 जुलाई 2005 को यूनेस्को ने इसे अपनी धरोहर सूची में शामिल किया |

नोट – वर्तमान में नंदकानन नेशनल पार्क उड़ीसा में स्थित है | जहां पर दुर्लभ सफेद रंग के बाघ पाए जाते हैं |

5 – राजाजी नेशनल पार्क 1983

इसकी स्थापना 1983 में देहरादून , हरिद्वार एवं पौड़ी जनपद में की गई थी |

इसका क्षेत्रफल 820.4 वर्ग किलोमीटर है |

हाल ही में 2015 में इसे उत्तराखंड का दूसरा टाइगर रिजर्व घोषित किया गया है |

इसका नाम भारत के एकमात्र भारतीय गवर्नर जनरल चक्रवर्ती राजगोपालाचारी के नाम पर रखा गया है

6 – गंगोत्री नेशनल पार्क 1990

गंगोत्री नेशनल पार्क की स्थापना 1990 में हुई थी | यह उत्तरकाशी जिले में स्थित है |

गंगोत्री नेशनल पार्क क्षेत्रफल की दृष्टि से उत्तराखंड का सबसे बड़ा नेशनल पार्क है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *