उत्तराखंड की संस्कृति ,भाषा एवं त्यौहार

Share on facebook
Share on twitter
Share on pinterest

संस्कृति सामान्य रूप से मानव जीवन की एक पद्धत्ति है | यह एक ऐसा नवीन पर्यावरण होता है | जिसका उद्भव मानव समुदाय के विचारों , संस्थाओं , दैनिक भाषा, उपकरण एवं अंतःकरण की भावना से होता है |

वास्तव में संस्कृति मानव समसय की समानताओं एवं विषमताओं के कार्मिक अध्ययन की कुंजी है | उत्तराखंड यधपि एक पहाड़ी राज्य है | फिर भी यहां पर अनेक धर्मों एवं जातियों के अस्तित्व के कारण एक विशिष्ट संस्कृति का उद्भव हुआ |

किसी भी स्थान की सभ्यता एवं संस्कृति को समझने के लिए वहाँ पर भाषा एवं समाज का अध्ययन आवश्यक हो जाता है |

उत्तराखंड की भाषा

उत्तराखंड में सामान्य रूप से हिंदी भाषा को आधिकारिक भाषा बनाया गया है | तथा जनवरी 2010 से संस्कृत को दूसरी राजभाषा का दर्जा दिया गया | परंतु क्षेत्र विशेष में भाषा के स्वरूप में परिवर्तन आता है | तथा उत्तराखंड की भाषा को चार भागों में बांटा जाता है |
1 – कुमाउँनी – उपतोली , सिराली , अस्कोटि , दानपुरिया , गंगाली आदि |
2 – गढ़वाली – गंगापरया , सैलानी , बदानी , राठी , माँझ , कुमइयां आदि |
3 – तराई क्षेत्र – मिश्रित भाषा का प्रयोग हिंदी , उर्दू , पंजाबी आदि |
4 – जनजातीयों की भाषा – उत्तराखंड में भोटिया , जौनसारी , धाक बोक्सा एवं राजी जनजातियां
पाई जाती है |

इनकी भाषा में भी व्यापक असमानता देखने को मिलती है | जैसे भोटिया लोगों की भाषा पर तिब्बतीय प्रभाव देखने को मिलता है | जबकि जौनसारी भाषा पर थोड़ा बहुत हिमांचली भाषा का प्रभाव देखने को मिलता है |

उत्तराखंड के प्रमुख त्यौहार

1 – घुघुतिया

यह मुख्य रूप से कुमाऊं क्षेत्र का त्यौहार है | इसमें आटे के टेढ़े मेढ़े घुघत बनाए जाते हैं | तथा यह सबसे पहले बच्चों द्वारा कऔ को खिलाए जाते हैं | गढ़वाल में इसी दिन मकर संक्रांति को खिचड़ी संक्रांति के रूप में मनाया जाता है |

2 – बग्वाल

दीपावली को स्थानीय भाषा में बग्वाल कहा जाता है | बग्वाल में भैला नृत्य होता है | तथा पहाड़ी क्षेत्रों में दीपावली के ठीक 11वें दिन एक और दिवाली मनाई जाती है | जिसे ईगास कहा जाता है |

3 – घी संक्रांति या ओलगिया

इसमें कुमाऊं में घू – त्यार कहा जाता है | तथा किवदंती है , जो इस घी को नहीं खाता वह गंडेल बन जाता है |

4 – खतुडवा

ये मुख्य रूप से कुमाऊं में मनाया जाता है | तथा पशुओं का त्योहार है | इस दिन चीड़ के पेड़ की होलिका बनाकर उसे पिरूल से ढक दिया जाता है | इसे ही खतुडवा कहते कहा जाता है | बाद में इसे जला दिया जाता है इस गैत्यार भी कहते है |

5 – फूल संक्रांति / फूलदेई

ये बसंत के अपमान का त्यौहार है | चैत्र मास के आगमन के पहले दिन बच्चे टोकरियों में फूल चढ़ाते हैं यह त्यौहार एक माह तक चलता है |

6 – हरेला

यह सावन मास के प्रथम दिन मनाया जाता है | यह कुमाऊं क्षेत्र का त्यौहार है | इससे 10 दिन पूर्व 5 ,7 , 9 अनाज किसी बर्तन में बो दिए जाते हैं|

दसवें दिन इन्हें काटकर के देवी देवताओं एवं लोगों के सिरों पर रखा जाता है | वर्तमान समय में पर्यावरण संरक्षण के लिए हरेला को वृक्षारोपण से जोड़ दिया गया है |

7 – चैतोली / चैत्वाली

यह पिथौरागढ़ में मनाया जाता है

8 – कलाई

कुमाऊँ फसल काटने के उपलक्ष में यह त्यौहार मनाया जाता है |

9 – भिरौली

कुमाऊँ संतान की प्राप्ति के लिए लिए ये त्यौहार मनाया जाता है |

10 – जागड़ा

यह जौनसार में महासू देवता से सम्बन्ध में मनाया जाता है |

Subscribe to our Newsletter

get notification in your email inbox when we share any post and update on our website. give your email detail below abnd join our exited community

Share this post with your friends

Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on linkedin

Leave a Reply