उत्तराखंड की नदियां भाग – 1
Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp

उत्तराखंड की नदियां भाग – 1 || अलकनंदा नदी तंत्र ||

उत्तराखंड की नदियां क्योंकि हिमालय में किसी ग्लेशियर से निकलती है। इसलिए ये सदानीरा है |उत्तराखंड की नदियों में से प्रमुख रूप से अलकनंदा नदी V आकार की घाटी बनाती है । उत्तराखंड की नदियों को निम्न प्रकार से प्रमुख नदी तंत्रों में बांटा गया है। अलकनंदा नदी तंत्र भागीरथी नदी तंत्र ,काली नदी तंत्र , यमुना नदी तंत्र, पश्चिमी रामगंगा नदी तंत्र

1 – अलकनंदा नदी तंत्र

अलकनंदा नदी सतोपंथ ग्लेशियर से निकलती है | सतोपंथ ग्लेशियर तथा भागीरथी ग्लेशियर मिलकर के अल्कापुरी बॉक ग्लेशियर का निर्माण करती है | तथा यहीं से अलकनंदा अपने वास्तविक स्वरूप में आती है |

सतोपंथ ग्लेशियर के नजदीक सतोपंथ ताल है | यह त्रिकोण आकार का है |

उसके पश्चात अलकनंदा में वसुधारा प्रपात एवं ऋषिगंगा मिलती है | तथा उनके पश्चात केशवप्रयाग में अलकनंदा और सरस्वती नदी का संगम है | सरस्वती नदी पर भीमपुल स्थित है

इसके पश्चात अलकनंदा बद्रीनाथ की तलहटी से होकर बहती है | तथा बद्रीनाथ मंदिर इसके बाएं तट पर स्थित है |

इसके पश्चात अलकनंदा हनुमान चट्टी तक पहुंचती है | जहां पर एक मंदिर है (जोशीमठ – नरसिंह मंदिर एक हाथ पतला भविष्य बद्री )

गोविंदघाट में पुष्पवती नदी अलकनंदा से मिलती है | लक्ष्मण गंगा या हेमगंगा पुष्पावती की एक सहायक नदी है |

अलकनंदा अपने पहले प्रयाग विष्णुप्रयाग की ओर आगे बढ़ती है | यहां पर अलकनंदा का संगम कनकलुख श्रेणी से निकलने वाली पश्चिमी धौलीगंगा से होता है। पंच प्रयाग में से विष्णुप्रयाग एकमात्र प्रयाग है | जहां पर कोई शहर नहीं बसा है। यहां पर जय – विजय नामक दो पर्वत है |

विष्णुप्रयाग के बाद अलकनंदा से तुंगनाथ श्रेणी से निकलने वाली वाली बालिख्या नदी मिलती है | पंच केदार ओं में से एक तुंगनाथ उत्तराखंड में सर्वाधिक ऊंचाई पर स्थित मंदिर है।

इसके पश्चात अलकनंदा में छोटी-छोटी नदियां जैसे पाताल गंगा, विरही गंगा एवं गरुड़गंगा मिलती है ।

अब अलकनंदा दूसरे प्रयाग नंदप्रयाग में नंदाघुघुटी से निकलने वाली नंदाकिनी नदी से मिलती है। माना जाता है कि यह स्थान नन्दो की राजधानी थी ।

नंदप्रयाग के पश्चात अलकनंदा तीसरे प्रयाग कर्णप्रयाग की ओर बढ़ती है | तथा यहां पर पिंडर नदी से मिलती है|

आटागाड़ नदी पिंडर नदी की एक सहायक नदी है |

कर्णप्रयाग में माना जाता है , कि कर्ण को भगवान सूर्य से यहां पर कवच एवं कुंडल प्राप्त हुए थे | यहां पर कर्ण मंदिर , कृष्ण कर्ण मंदिर तथा उमा देवी मंदिर स्थित है |

उपरोक्त तीनों प्रयाग चमोली जनपद में है |

इसके पश्चात अलकनंदा चौथे प्रयाग रुद्रप्रयाग की ओर आगे बढ़ती है | यहां पर अलकनंदा का संगम चौराबाड़ी ताल से निकलने वाली मंदाकिनी नदी से होता है |

मंदाकिनी सोनप्रयाग में सोनगंगा या वसुकि नदी से मिलती है | तथा कालीमठ में इसका संगम दूधगंगा या मधुगंगा से होता है |

रुद्रप्रयाग में अनेक रुद्रमंदिर स्थित है | इसलिए प्राचीन ग्रंथों में इस क्षेत्र को रुद्रावत या रुद्रक्षेत्र कहा जाता था |

रुद्रप्रयाग में नारद ने रुद्र की तपस्या की थी |एवं यहीं पर नारद को संगीत शास्त्र का ज्ञान हुआ था।

रुद्रप्रयाग के पश्चात अलकनंदा श्रीनगर होते हुए पांचवे प्रयाग देवप्रयाग की ओर बढ़ती है | तथा देवप्रयाग में इसका संगम भागीरथी नदी से होता है। भिलंगना नदी भागीरथी की प्रमुख सहायक नदी है ।

माना जाता है कि देवप्रयाग को देवशर्मा नामक ऋषि ने बसाया था | इसे सुदर्शन प्रयाग के नाम से भी जाना जाता है। एवं पौराणिक गाथाओं के अनुसार इस स्थान पर महर्षि दधीचि ने इंद्र को अपनी अस्थियां दी थी । इसलिए इसे इंद्र प्रयाग भी कहा जाता है ।

यहां पर दो कुंड भी स्थित हैं । जिनमें भागीरथी की ओर से ब्रह्मकुंड तथा अलकनंदा की ओर से वशिष्ठ कुंड है । अलकनंदा को बहु एवं भागीरथी को सास कहा जाता है |

अपने उद्गम स्थल से 195 किलोमीटर बहने के बाद अलकनंदा नदी देवप्रयाग से गंगा के नाम से जानी जाती है | इसके पश्चात् फूलचट्टी नामक स्थान पर गंगा से नयार नदी मिलती है |

ऋषिकेश से चंद्रभागा तथा रायवाला में सौंग नदी से मिलते हुए गंगा हरिद्वार में उत्तराखंड से बहार चली जाती है | देवप्रयाग से हरिद्वार तक गंगा की कुल लम्बाई 96 किलोमीटर है |

नोट – अलकनंदा उत्तरखंड की सबसे अधिक जलप्रवाह वाली नदी है | ये V आकर की घाटी बनती है | एवं सर्वाधिक यह संकरी घाटियों से होकर बहती है |

Subscribe to our Newsletter

get notification directly in your email.
whenever we post an article or Video lecture on our website, you will be notified through our newsletter. Write down your email ID in the box Below and join our exciting community.

Share this post with your friends

Share on facebook
Share on google
Share on twitter
Share on linkedin

Leave a Reply